testwebdunia1
testwebdunia0
testwebdunia2
Widgets Magazine
Widgets Magazine

करूणात्रिपदीतील पहिले पद

datta jayanti
वेबदुनिया|
शांत होई श्रीगुरूदत्ता। मम चित्ता शमवी आता ।।धृ.।।
तूं केवळ माता जनिता। सर्वथा तूंचि हितकर्ता।। तूं आप्त स्वजन भ्राता। सर्वथा तूंचि रे त्राता। भयकर्ता तूं भयहर्ता। दंडधर्ता तूं परिपाता। तुजवांचुनि न दुजी वार्ता। तूं आर्ता आश्रयदाता।।शांत हो.।। 1।। > अपराधास्तव गुरुनाथा। जरि दंडा धरिसि यथार्था। तरि आम्ही जाउनि गाथा। तव चरणीं नमवूं माथा । तूं तथापि दंडिसि देवा। कोणाचा मग करूं धावा। सोडविता दुसरा तेव्हां। कोण दत्ता आम्हां त्राता।।शांत हो.।।2।।> तूं नटसा होउनि कोपी। दंडिताहि आम्ही पापी। पुनरपिही चुकत तथापि। आम्हांवरि नच संतापी। गच्छत: स्खलनं क्वापी। असें मानुनि नच हो कोपी निज कृपालेश रे ओपी। आम्हांवरि तूं भगवंता।।शांत हो.।।3।।

तव पदरीं असता ताता। आडमार्गी पाउल पडतां। सांभाळुनि मार्गावरता। आणिता न दुसरा त्राता बिरूदा आणुनि चित्ता। तूं पतितपावन दत्ता। वळे आतां आम्हांवरता। करूणाघन तूं गुरुनाथा।।शांत हो.।।4।।

सहकुटुंब सहपरिवार। दास आम्ही हे घरदार। तव पदीं अर्पुं असार। संसारराहित हा भार। परिहारिसी करूणासिंधो। तूं दीनानाथ सुबंधो। आम्हां अघलेश न बाधो। वासुदेव प्रार्थित दत्ता।।शांत हो.।। 5।।


यावर अधिक वाचा :