मंगळवार, 4 ऑक्टोबर 2022
  1. धर्म
  2. सण-उत्सव
  3. राखी
Written By
Last Modified बुधवार, 10 ऑगस्ट 2022 (15:30 IST)

फूलों का तारों का सबका कहना है Rakhi Song

फूलों का तारों का सबका कहना है... हे हरे रामा हरे कृष्णा या चित्रपटातील लोकप्रिय गाणे आहे. हे गाणे लता मंगेशकर आणि किशोर कुमार यांनी गायले आहे. हे आर.डी. बर्मन यांनी संगीतबद्ध केले आहे आणि आनंद बक्षी यांनी लिहिले आहे. देव आनंद, मुमताज आणि झीनत अमान यांच्यावर चित्रित करण्यात आले आहे.

(लता मंगेशकर)
 
फूलों का, तारों का, सबका कहना है
एक हजारों में, मेरी बहना है
सारी उमर, हमें संग रहना है..
 
फूलों का, तारों का, सबका कहना है
एक हजारों में, मेरी बहना है
सारी उमर, हमें संग रहना
फूलों का, तारों का, सबका कहना है
 
ये न जाना दुनिया ने, तू है क्यों उदास
तेरी प्यासी आँखों में, प्यार की है प्यास
लाला ललाह.. लाला ललाह…
ये न जाना दुनिया ने, तू है क्यों उदास
तेरी प्यासी आँखों में, प्यार की है प्यास
 
आ मेरे पास आ, कह जो कहना है
एक हजारों में, मेरी बहना है
सारी उमर, हमें संग रहना
फूलों का, तारों का, सबका कहना है
ला लला लाह.. ला लाला ललाह…
 
भोली भाली जापानी गुड़िया जैसी तू
प्यारी प्यारी जादू की, पुड़िया जैसी तू
ला ला ललाह.. ला ला ललाह…
भोली-भाली जापानी गुड़िया जैसी तू
प्यारी-प्यारी जादू की, पुड़िया जैसी तू
 
 
 
डैडी का, मम्मी का, सबका कहना है
एक हजारों में, मेरी बहना है
सारी उमर, हमें संग रहना
फूलों का, तारों का, सबका कहना है
ल ल ल ला लाला ल ल ल लाह….
 
*************************** 
 
(किशोर कुमार)
 
फूलों का, तारों का, सबका कहना है
एक हजारों में, मेरी बहना है
सारी उमर, हमें संग रहना
फूलों का, तारों का, सबका कहना है
 
जबसे मेरी आँखों से, हो गयी तू दूर
तबसे सारे जीवन, के सपने हैं चूर
हे..ए.. जबसे मेरी आँखों से, हो गयी तू दूर
तबसे सारे जीवन, के सपने हैं चूर
 
आँखों में नींद ना, मन में चैना है
एक हजारों में, मेरी बहना है
सारी उमर, हमें संग रहना
फूलों का, तारों का, सबका कहना है
 
देखो हम तुम दोनों, हैं इक डाली के फूल
मैं ना भूला, तू कैसे मुझको गई भूल
हाँ…देखो हम तुम दोनों, हैं इक डाली के फूल
मैं ना भूला, तू कैसे मुझको गई भूल
 
आ मेरे पास आ, कह जो कहना है
एक हजारों में, मेरी बहना है
सारी उमर, हमें संग रहना
फूलों का, तारों का, सबका कहना है
 
जीवन के दुखों से, यूँ डरते नहीं हैं
ऐसे बच के, सच से गुज़रते नहीं हैं
हे..ए..जीवन के दुखों से, यूँ डरते नहीं हैं
ऐसे बच के, सच से गुज़रते नहीं हैं
 
सुख की है चाह तो, दुःख भी सहना है
एक हजारों में, मेरी बहना है
सारी उमर, हमें संग रहना
फूलों का, तारों का, सबका कहना है
एक हजारों में, मेरी बहना है
ल ल ल ला लाला ल ल ल लाह….
एक हजारों में, मेरी बहना है